Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.
Upcoming SlideShare
Thau Rửa Bể Nước Ngầm Tại %Q.Cầu giấy(*<0943><>Hút Bể Phốt,Hố Ga Gía Rẻ
Next
Download to read offline and view in fullscreen.

Share

Murari Mahaseth

Download to read offline

कुछ चलें हैं कुछ बाकी हैं,
कुछ और को पहुंचना हैं,
मुकाम के इस दौर में,
आगे सभी को जाना हैं |

Related Books

Free with a 30 day trial from Scribd

See all

Murari Mahaseth

  1. 1. -मुरारी महासेठ मंज़िल की ओर कु छ चलें हैं कु छ बाकी हैं, कु छ और को पहुंचना हैं, मुकाम के इस दौर में, आगे सभी को जाना हैं |
  2. 2. -मुरारी महासेठ कु छ ठोकर खा के बैठे हैं, कु छ ददद सह के सहमे हैं, फिर भी ननराश न होना हैं, सदा आगे ही जाना हैं |
  3. 3. चाहे मंज़िल हो कांटो से निरा, या राहों में हो पत्थर बबछा, हर काम कठठन रही हैं, पर ज्यादा ठदन न ठटकी हैं | -मुरारी महासेठ
  4. 4. कोई-न-कोई ननहारा हैं, फिर उसको सरल बनाया हैं, "उसने" भी देखा था वो मंिर, सिल हुआ कर श्रम अंत तक | -मुरारी महासेठ
  5. 5. इक ससख दी "उसने" हमें, हम भी फकसी से कम नहीं, अभी शेष हैं वो रहस्य ज़जसे कर सकते हम सदृश्य, पथ से जंजीर हटाकर बन सकते हैं ठदवाकर | -मुरारी महासेठ
  6. 6. ननष्कषद यही हम पाते हैं, कोई काम था न जठटल, न है, और हम चाहें तो, मंज़िल पास ले आएंगे | -मुरारी महासेठ
  7. 7. -मुरारी महासेठ
  • vivekkhare2211

    Oct. 9, 2015

कुछ चलें हैं कुछ बाकी हैं, कुछ और को पहुंचना हैं, मुकाम के इस दौर में, आगे सभी को जाना हैं |

Views

Total views

418

On Slideshare

0

From embeds

0

Number of embeds

6

Actions

Downloads

4

Shares

0

Comments

0

Likes

1

×